Ambala News: अंबाला स्कूलों की 1200 बसों की 10 दिन के अंदर होगी जांच, पहले दिन 6 एंपाउंड

अंबाला :- दो दिन पहले महेंद्रगढ़ के कनीना गांव में एक स्कूल बस हादसा हुआ है, जिसमें काफी बच्चों की मौत हो गई है। इस हादसे के बाद सरकार ने प्रदेश भर में निजी स्कूलों की बसों की फिटनेस जांच करने का आदेश दिया है। आदेश देने के बाद अब बसों की फिटनेस जांच करने का काम शुरू हो गया है ।

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

हाल ही में खबर आई है कि बसों की जांच होने के बाद पांच स्कूली बस और एक इंस्टीट्यूट की बस को इंपाउंड किया गया है। दूसरी तरफ शुक्रवार को हरियाणा के मुख्य सचिव टीवीएसएन प्रसाद ने चंडीगढ़ से आयोजित वीसी के माध्यम से डीसी एसपी और संबंधित अधिकारियों को सुरक्षित स्कूल वाहन पॉलिसी के तहत अगले 10 दिनों में स्कूलों के वाहनों को चेक करने के आदेश जारी किए हैं।

See also  Haryana Roadways : हरियाणा रोडवेज की इन खासियत की वजह से पूरे भारत में कमा रखा है नाम, आज आप भी जानलें

इतना ही नहीं साथ में यह भी निर्देश दिए हैं कि पॉलिसी के तहत मापदंडों को पूरा कर रहे हैं या नहीं इस चीज का पूरा ध्यान रखा जाएगा। अगर कोई भी नियम की अवहेलना करेगा तो तुरंत कार्रवाई होगी।

बसों की जांच को लेकर जारी हुआ आदेश

बसों की जांच के लिए एक बैठक की गई थी जिसमें  आरटीए और रोडवेज अधिकारी शामिल हुए थे ।इसके उपरांत शिक्षा विभाग अधिकारियों की एसीएस ने भी बैठक की है ।बैठक में जिला शिक्षा अधिकारियों को अपने-अपने जिले के निजी स्कूलों की बसों की संख्या के उनकी फिटनेस जांच के लिए भी एक शेड्यूल तैयार करने के आदेश दिए हैं।

See also  Roadways Free Bus Pass : सरकार की नई योजना हरियाणा के लगभग 84 लाख लोगों को मिलेगी फ्री यात्रा सुविधा

अगर हम अंबाला की बात करें तो 10 दिन में 23 अप्रैल तक सभी निजी स्कूलों की बसों की फिटनेस की जांच होगी। इसके लिए भी एक शेड्यूल तैयार किया गया है। अंबाला जिले में करीब 300 से ज्यादा निजी स्कूल है और इन स्कूलों में 1200 से ज्यादा बस हैं और इन सभी बसों की फिटनेस जांच की जाएगी। जो भी स्कूल पॉलिसी के मापदंड को पूरा नहीं करेगा उसके खिलाफ नियम अनुसार कार्रवाई भी की जाएगी।

9 साल पहले भी हाई कोर्ट ने बसों की जांच को लेकर दिया था आदेश

आज से 9 साल पहले भी हरियाणा हाई कोर्ट ने आदेश जारी किए थे और उस दौरान मॉनिटरिंग अथॉरिटी बनाकर निजी स्कूलों में बसों की फिटनेस जांच की गई थी। उस दौरान बसों की जांच 2016 से 2018 के बीच हुई थी ।लेकिन उसके बाद से निजी स्कूलों में जाकर किसी ने बसों को चेक नहीं किया ना ही बस चालकों की पुलिस वेरिफिकेशन की गई और ना ही किसी की मेडिकल जांच हुई।

See also  Haryana Roadways: हरियाणा रोडवेज में फ्री यात्रा करने वालो की उलटी गिनती शुरू, सरकार ने कस दिया है ये सिकंजा

निजी स्कूल नियमों की पालना नहीं करते हैं। निजी स्कूल के बसों में सीसीटीवी भी नहीं है, जबकि हाई कोर्ट द्वारा रूल बनाया गया है कि हर बस में सीसीटीवी होना जरूरी है और सीसीटीवी का 15 दिन का बैकअप रखना भी जरूरी है। लेकिन कोई भी इस रूल का पालन नहीं करता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker