Roadways News: इस डिपो में नई रोडवेज बसों के शामिल होने के बाद भी ग्रामीण रूटों के छात्र छात्राएं झेल रहे परेशानी

Roadways News:- हर साल यात्रियों की समस्या को दूर करने के लिए हरियाणा रोडवेज हर जिले के बेड़े में नई बसों को शामिल करता है। अगर हम यमुनानगर की बात करें तो यमुनानगर डिपो में भी 65 नई बस शामिल की गई थी। लेकिन इसके बावजूद भी जिले के शिक्षण संस्थानों में जाने वाली विद्यार्थियों को बस की सुविधा नहीं मिल पा रही है। इससे ग्रामीण रूटों के विद्यार्थी, नौकरी पैसे वाले लोग काफी परेशान है।

Haryana Roadways News

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

यमुनानगर में शामिल हुई नई 65 बस को पंजाब के अमृतसर, पटियाला, जम्मू के कटरा जैसे बड़े रूटों पर संचालित किया गया है। इसके अलावा दिल्ली, चंडीगढ़ सहित हरियाणा के कई जिलों के रूटों पर Roadways बसों के फेर बढ़ा दिए गए हैं। परंतु जिले के अधिकांश गांव के लिए अभी बस सुविधा शुरू ही नहीं की गई है, जिससे विद्यार्थियों को निजी बस में लटक कर या छतों पर बैठकर शिक्षण संस्थानों में पहुंचना पड़ता है।

See also  Hisar News: हैप्पी कार्ड वितरण के लिए बस स्टैंड पर आज लगेगा मेला , अपना कार्ड प्राप्त करें

यमुनानगर में विद्यार्थियों को Roadways Bus न मिलने से होती है परेशानी

आप सबको बता दे की यमुनानगर Roadways डिपो में आसपास के रूट और दूर के रूट मिलकर 180 बस संचालित की जाती है। इसके बावजूद भी जिले के ग्रामीण रूटों के बीच ही नहीं बल्कि यमुनानगर व जगाधरी सहित अन्य बस अड्डे पर विद्यार्थियों को जान जोखिम में डालकर स्कूल जाना पड़ता है। ग्रामीण रूट के बस स्टॉप पर जब बस रूकती है तो उसमें यात्रियों के चढ़ने की होड़ लगी रहती है। कई बार धक्का मुक्की की स्थिति भी बन जाती है। बहुत बार विद्यार्थी दरवाजा पर लटक कर या बस की छत पर चढ़कर शिक्षण संस्थानों में पहुंचते हैं। जिससे हादसा होने की आशंका बढ़ जाती है।

See also  Elderly Bus Driver With Hookah:- एक हाथ में हुक्का और दूसरे हाथ से स्टीयरिंग घुमाते हुए ताऊ ने दौड़ाई हरियाणा रोडवेज की बस!

कई बार ऑटो व अन्य वाहन का लेना पड़ता है सहारा

बहुत बार यात्रियों ने बस की मांग की है लेकिन उनकी बात पर कोई सुनवाई नहीं हो रही है। यमुनानगर व जगाधरी बस स्टैंड से हजारों छात्र-छात्राएं डाबला, रादौर, कुरुक्षेत्र, मुलाना, हथिनी कुंड सहित जिले के अन्य ग्रामीण क्षेत्रों में बने शिक्षण संस्थानों में पढ़ने जाते हैं। इनमें से कुछ यात्रियों का कहना है कि उन्हें शिक्षण संस्थान में पहुंचने के लिए दरवाजे पर लटक कर जाना पड़ता है और वापसी के समय कई बार बस नहीं मिलती तो ऑटो व अन्य वाहनों में महंगा किराया देकर घर आना पड़ता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker