Delhi DTC News: अभी और करना पड़ेगा दिल्ली वालो को नई बसों का इंतजार, अब यहाँ अटका पेच

Delhi DTC News:- दिल्ली परिवहन निगम (डीटीसी) में आने वाली 1500 बसों में से 579 बसों का इंतजार लंबा हो सकता है. क्योंकि वित्त विभाग ने इन बसों पर दी जाने वाली सब्सिडी को लेकर आपत्ति जताई है. दरअसल परिवहन विभाग ने वित्त 579 बसों की सब्सिडी देने के लिए 285 करोड रुपए की मंजूरी मांगी थी. इस पर आपत्ति जताते हुए वित्त विभाग ने परिवहन विभाग से इसके लिए स्कीम बनाने की बात कही है. हालांकि सरकार का कहना है कि सब्सिडी को लेकर कैबिनेट पहले ही मंजूरी दे चुका है.

Delhi DTC News

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

दरअसल सरकार को डीटीसी के लिए 1500 इलेक्ट्रिक बसे खरीदनी थी. जिसमें से 400 इलेक्ट्रिक बसें सड़कों पर उतारी जा चुकी है बाकी बची 1100 बसों का इस वर्ष के अंत तक चरणबद्ध तरीके से लाया जाएगा. इन 1500 बसों में से 921 बसों पर केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार को सब्सिडी दी थी केंद्र ने कुल 417 करोड़ की रुपए की सब्सिडी दी थी. बाकी बची हुई 579 बसों पर दिल्ली सरकार को सब्सिडी उपलब्ध कराने के लिए कहा गया है. केजरीवाल सरकार कैबिनेट से इसे मंजूरी भी मिल चुकी है.

See also  Rohtak Roadways News: रोहतक से चंडीगढ़ के लिए चलेगी हरियाणा रोडवेज की AC बसें, यहाँ से चेक करे किराया और रूट

अधिकारी सूत्रों के माने तो दिल्ली परिवहन विभाग ने 579 बसों की सब्सिडी के लिए वित्त विभाग से 285 करोड रुपए मांगे थे. वित्त विभाग ने सब्सिडी को लेकर आपत्ति उठाई है. वित्त विभाग ने परिवहन विभाग को लिखा है की सब्सिडी के लिए अलग से स्कीम योजना बनाई होगी बिना किसी मद या योजना के यह पैसा नहीं दिया जा सकता है वही परी बहन विवाह के अधिकारियों की माने तो अगर योजना बनानी पड़ी तो ये सब अगले वर्ष ही डीसी के बेड़े में शामिल हो पाएंगी.

दिल्ली से चल रही 800 इलेक्ट्रिक बसे

दिल्ली में वर्तमान में 735 बसों का परिचालन किया जा रहा है. इसमें डीटीसी की 4088 बेस और कलेक्टर की 3047 बसे शामिल की गई है. कुल 7135 बसों में 800 बसे इलेक्ट्रिक है. सरकार का दावा है कि देश में दिल्ली में सबसे अधिक इलेक्ट्रिक बसों का परिचालन किया जा रहा है जिसमें डीटीसी और 100 बसे कलेक्टर योजना के तहत चल रही हैं. सरकार का कहना है कि वर्ष 2025 तक दिल्ली में 10,480 बसें होगी, जिनेमें 80 फीसदी यानि 8280 बसें इलेक्ट्रिक होंगी। इसके लिए अभी तक कुल 3980 इलेक्ट्रिक बसों की खरीद का वर्क ऑर्डर जारी किया जा चुका है। पहले चरण में 1500 बसें आनी हैं. सरकार का कहना है कि इलेक्ट्रिक बसों की संख्या बढ़ने के बाद दिल्ली में सालाना 4.67 लाख टन कार्बन डाई ऑक्साइड के उत्सर्जन में कमी आएगी.

See also  Haryana Roadways : भाई के घर हरियाणा रोडवेज से फ्री में पहुंची बहनें , राखी बांध कर की लम्बी उम्र की कामना

सितंबर तक डेढ़ हजार बसे आएंगी.
1500 बसे सितंबर 2023 तक आनी है.
400 बसे अभी तक आ चुकी हैं.
921 बसों पर केंद्र सरकार से सब्सिडी मिली है.
417 करोड रुपए की बसों की सब्सिडी केंद्र सरकार ने दी है.
579 बसों को दिल्ली सरकार को 285 करोड़ की सब्सिडी देनी है.

Author Sunil Rajput

नमस्कार दोस्तों मेरा नाम सुनील कुमार है. मैं इस वेबसाइट की एडमिन टीम से हूँ. और बतौर कंटेंट राइटर भी कार्य करता हूँ. मैंने इससे पहले खबरी एक्सप्रेस और पंजाब केसरी में अपनी सेवाएं बतौर कंटेंट राइटर दी है. मेरा मुख्य उद्देशय आप सभी को हरियाणा रोडवेज बसों से जुडी जानकारी प्रदान करना है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker