अब दिल्ली में मेट्रो की तरह रोडवेज बसों में भी WhatsApp से कटवा सकेंगे टिकेट, शुरू हुई नई तकनीक

नई दिल्ली :- आए दिन दिल्ली मेट्रो से हजारों लोग सफर करते हैं। दिल्ली मेट्रो के यात्रियों के सफर को और ज्यादा आसान बनाने के लिए डीएमआरसी ने व्हाट्सएप आधारित टिकटिंग सर्विस को लागू किया है, जिसकी सहायता से यात्री व्हाट्सएप से ही अपनी मेट्रो की टिकट ले सकते हैं।

Electric Buses

Join WhatsApp Group Join Now
Join Telegram Group Join Now

दिल्ली मेट्रो की तरह अब दिल्ली परिवहन निगम की बसों में भी व्हाट्सएप आधारित टिकटिंग शुरू की जाएगी। आईए जानते हैं कैसे कर सकते हैं व्हाट्सएप से टिकट बुक।

See also  Premium Bus Service Delhi: जाने क्या होती है प्रीमियम बसें, अब दिल्ली की सड़कों पर भरती दिखेंगी उड़ान

अब से दिल्ली परिवहन विभाग ने व्हाट्सएप टिकटिंग को किया शुरू

अब से दिल्ली बसों में सफर करने वाले यात्रियों को टिकट के लिए परेशान नहीं होना पड़ेगा। दिल्ली परिवहन विभाग डीटीसी और कलेक्टर बसों के लिए डिजिटल टिकटिंग प्रणाली को शुरू करने जा रहा है।

बता दें कि दिल्ली मेट्रो में रेल कारपोरेशन के पास पहले से ही व्हाट्सएप आधारित टिकटिंग सर्विस लागू की गई है। दिल्ली मेट्रो में व्हाट्सएप टिकटिंग को इस साल मई में शुरू किया गया था। बाद में इसे गुरुग्राम रैपिड मेट्रो सहित रैपिड ट्रांजिट सिस्टम के सभी कॉरिडोर तक विस्तारित किया गया था।

यात्री व्हाट्सएप से आसानी से कर पाएंगे अपनी टिकट बुक

व्हाट्सएप से टिकट को बुक करना जितना आसान है उतना ही ज्यादा इसका रद्द करना है, यानी कि अगर आप व्हाट्सएप से एक बार टिकट बुक कर लेते हैं तो उसे रद्द करने की अनुमति नहीं है। व्हाट्सएप से टिकट बुक करने पर क्रेडिट या डेबिट कार्ड से लेनदेन किया जाएगा और उस पर कुछ चार्ज भी वसूला जाएगा।

See also  दिल्ली में 1 जनवरी से नहीं चलेंगी ये रोडवेज बसें , एक और नया फैसला आया सामने

जबकि यूपीआई आधारित लेनदेन के लिए कोई सुविधा शुल्क नहीं लिया जाता है। डीटीसी बसों में व्हाट्सएप आधारित टिकटिंग सर्विस शुरू होने के बाद लोगों को टिकट लेने में काफी आसानी होगी और उन्हें लंबी लाइन में नहीं लगना पड़ेगा। यात्री सफर शुरू करने से पहले ही अपने गंतव्य स्थान का टिकट आराम से बुक कर सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Adblock Detected

Please consider supporting us by disabling your ad blocker